कहीं आप भी तो नहीं कर रहे नकली गुड़ का सेवन, घर बैठे ऐसे करें शुद्धता की पहचान

सर्दी का मौसम आते ही हम ऐसे खाने या चीजों का सेवन करते हैं जो हमारे शरीर को गर्माहाट दे सकें, क्योंकि इस ठिठुरती ठंड से बचने का यही एक रास्ता होता है। भले ही हम कितने गर्म कपड़े पहन लें, लेकिन जब तक कुछ गर्म चीज खा न लें सर्दी लगना बंद या कम नहीं होती। ऐसे में गुड़ इसमें आपकी काफी मदद कर सकता है। गुड़ का सेवन सर्दियों में काफी ज्यादा किया जाता है, क्योंकि ये हमारे शरीर को गर्माहाट देने का काम करता है। लेकिन सोचिए कि जिस गुड़ का आप सेवन कर रहे हैं और वो नकली हो? तो चलिए आपको बताते हैं कि कैसे आप घर बैठे असली और नकली गुड़ का पता लगा सकते हैं।

दरअसल, चीनी शरीर के लिए काफी ज्यादा नुकसानदायक होती है। इसलिए इसकी जगह पर गुड़ का सेवन करना फायदेमंद माना जाता है, क्योंकि ये शरीर को डिटॉक्सीफाई करता है यानी शरीर में जमा सारी गंदगी को बाहर निकाल फेंकने में मदद करता है। गुड़ की तासीर काफी गर्म मानी गई है। इसलिए लोग सर्दियों में आटे का हलवा बनाते हैं और उसमें चीनी की जगह गुड़ डालते हैं, ताकि शरीर को गर्माहाट मिल सके। गुड़ हमारे शरीर को कई पोषक तत्व प्रदान करता है।

गुड़ में फास्फोरस, पोटेशियम, कैल्शियम, प्रोटीन, आयरन जिंक और विटामिन- बी समेत कई ऐसे तत्व मौजूद होते हैं, जो हमारे शरीर के लिए काफी जरूरी होते हैं। वहीं, सर्दियों में इसका सेवन करना तो काफी फायदेमंद होता ही है। जहां एक तरफ गुड़ सेहत को कई फायदे देता है, तो वहीं दूसरी तरफ ये हमारी स्किन के लिए भी बेहद कारगर होता है। लेकिन इसके लिए गुड़ का असली होना जरूरी है। अगर आप गुड़ को पानी में डालते हैं और वो नीचे बैठ जाता है, तो यानी वो नकली गुड़ हो सकता है और अगर गुड़ पानी में घुल जाता है तो फिर वो गुड़ असली हो सकता है।

Gud Meaning In Hindi And English

अगर आप गुड़ की चाय बना रहे हैं और आपकी चाय फट जाती है, तो ये संकेत है कि गुड़ में जरूर केमिकल की मिलावट की गई है। असली और नकली गुड़ को पहचानने का सबसे सही तरीका है उसका रंग। जो गुड़ असली होता है उसका रंग गहरे भूले रंग का होना चाहिए, लेकिन अगर गुड़ पीले रंग का है तो समझ लीजिए कि उसमें कुछ न कुछ केमिकल मिले हो सकते हैं। वहीं, गुड़ को चखने से भी असली नकली गुड़ का पता लगा सकते हैं। चखने पर अगर गुड़ थोड़ा नमकीन लगे तो समझ लीजिए कि इसमें खनिज लवणों की उच्च मात्रा है।

बाजार में नकली गुड़ धड़ल्ले से बिकता है। ऐसे गुड़ में तीन खास तत्व रासयनिक रंग, पाउडर और सोडे की मिलावट की जाती है। इनके जरिए गुड़ को चमकदार, पीले रंग का और वजनदार बनाया जाता है, ताकि ज्यादा से ज्यादा मुनाफा कमाया जा सके। लेकिन लोग ये भूल जाते हैं कि इस नकली गुड़ का सेहत पर काफी बुरा असर पड़ सकता है। इसके सेवन से आपके पाचन तंत्र के साथ किडनी पर भी इसका बुरा असर पड़ता है। इसलिए गुड़ की पहचान करना बेहद जरूरी होता है।

Leave a Comment