Gonorrhea: गोनोरिया क्या है? जानें इसके कारण, लक्षण और उपाय

गोनोरिया क्या है? (What is Gonorrhea)

गोनोरिया (Gonorrhea) सेक्शुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन (एसटीआई) है, जो कि नीसेरिया या गोनोकोकस नामक बैक्टीरिया के कारण होता है। इस इंफेक्शन के फैलने के कारण इस प्रकार हो सकते हैं।

  • असुरक्षित यौन संबंध बनाने के कारण जैसे- योनि सेक्स, गुदा सेक्स या ओरल सेक्स के दौरान कंडोम का इस्तेमाल नहीं करना।
  • अगर आप किसी ऐसे पार्टनर के साथ योनि, गुदा या ओरल सेक्स करते हैं, जिसे पहले से ही गोनोरिया है, तो आपको भी गोनोरिया हो सकता है।
  • पब्लिक टॉयलेट, पब्लिक पूल या असुरक्षित स्थानों में शौच या स्नान करना।
  • गंदे सेक्स टॉय का इस्तेमाल करना।
  • सेक्स टॉय अन्य लोगों के साथ शेयर करना।
  • असुरक्षित तरीके से सेक्स टॉय का इस्तेमाल करना।

Gonorrhoea - reasons and risks of its development | Ayurveda Bansko

गोनोरिया कितना आम है? (How common is gonorrhea?)

गोनोरिया बेहद आम है। यह आमतौर पर महिलाओं की तुलना में पुरुषों को अधिक प्रभावित करता है। इसके रिस्क फैक्टर्स को कम करके इसे मैनेज किया जा सकता है। अधिक जानकारी के लिए कृपया अपने चिकित्सक से चर्चा करें।

शरीर में गोनोरिया (Gonorrhea) किस तरह का प्रभाव कर सकता है?

गोनोरिया गले, गुदा, पेशाब की नली, सर्विक्स (जहां गर्भाशय खुलता है) और आंखों को संक्रमित कर सकता है। इसके अलावा, अगर इसके लक्षणों की पहचान करने में देरी हो जाए, तो यह त्वचा और जोड़ों में भी संक्रमण का कारण बन सकता है। गोनोरिया की वजह से मेनिनजाइटिस की भी समस्या हो सकती है। मेनिनजाइटिस दिमाग की बाहरी परत का संक्रमण होता है, जो गंभीर स्थिति भी बन सकती है। यहां तक की इसके उपचार में देरी होने पर यह महिलाओं को बांझ भी बना सकता है।

गोनोरिया संक्रमित महिला गर्भवती हो जाए, तो इसके क्या जोखिम हो सकते हैं? (What are the risks when a gonorrhea infected woman becomes pregnant?)

अगर गोनोरिया संक्रमित कोई महिला गर्भवती हो जाती है, या गर्भावस्था के दौरान उसमें गोनोरिया का संक्रमण पाए जाते हैं, तो यह पेट में पल रहे भ्रूण के लिए जोखिम भरा हो सकता है। बच्चे को जन्म देते समय गर्भवती महिला को गोनोरिया होने से इसके संक्रमण बच्चे में भी फैल सकते हैं। बच्चे की आंख में गंभीर संक्रमण हो सकता है और वह अंधा भी हो सकता है।

अगर आप गर्भवती होने की प्लानिंग कर रही हैं, तो हमेशा सुरक्षित सेक्स का ध्यान रखें। गर्भवती होने से पहले महिला और पुरुष दानों साथी की शारीरिक जांच करानी चाहिए। अगर जांच में किसी तरह के संक्रमण की पुष्टी होती है, तो उसका सफल उपचार कराने के बाद ही प्रेग्नेंसी प्लानिंग करनी चाहिए।

लक्षण

गोनोरिया के लक्षण क्या हैं? (What are the symptoms of gonorrhea?)

गोनोरिया (Gonorrhea) के लक्षण पुरुषों और महिला में निम्नलिखित हो सकते हैं, जिसमें शामिल हैंः

पुरुषों में गोनोरिया के लक्षण (Gonorrhea symptoms in male)

  • पेशाब करते समय चुभने जैसा या जलन का अनुभव होना
  • लिंग से पानी निकलना। इस पानी का रंग अक्सर सफेद या पीला हो सकता है। कुछ स्थितियों में इससे बदबू भी आ सकती है।
  • अंडकोषों में सूजन या दर्द होना
  • लिंग की नली खुलने की जगह पर लाली या दर्द होना
  • गुदा से पानी निकलना या दर्द होना
  • आंखों में संक्रमण होनाGeneral symptoms and causes of gonorrhea

महिलाओं में गोनोरिया के लक्षण (Gonorrhea symptoms in female)

  • योनि से पानी निकलना, जो आम-तौर पर सामान्य न लग रहा हो
  • योनि से खून निकलना
  • पेशाब करते समय दर्द होना महसूस होना
  • पेल्विस में दर्द होना, खासकर सेक्स करते समय
  • गुदा से पानी निकलना या दर्द होना
  • आंखों में संक्रमण होना

बताए गए लक्षणों के अलावा कुछ अन्य लक्षण हो सकते हैं। यदि आपको इनमें से लक्षण नजर आता है तो कृपया अपने चिकित्सक से परामर्श करें।Chlamydia and gonorrhea have increased among younger women, study finds

मुझे अपने डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए?

यदि आपको निम्न में से कोई भी परेशानी है, तो आपको अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए:

  • यूरिन पास होने में दर्द
  • वजायनल डिस्चार्ज में वृद्धि
  • वजायनल ब्लीडिंग
  • एनल (गुदा) में खुजली
  • एनल में किसी तरह की समस्या (पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए)
  • एनल से ब्लीडिंग (पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए)

यदि ऊपर बताए गए लक्षणों में से कोई लक्षण नजर आ रहा है या आपका कोई प्रश्न है तो कृपया अपने डॉक्टर से परामर्श करें। हर किसी का शरीर अलग तरह से कार्य करता है। इसलिए अपने डॉक्टर के साथ चर्चा करना हमेशा सबसे अच्छा होता है।

गोनोरिया (Gonorrhea) का जोखिम कब बढ़ जाता है?

इसके कई जोखिम कारक है, लेकिन सबसे महत्वपूर्ण जोखिम कारक असुरक्षित यौन संबंध है।

निदान और उपचार

गोनोरिया का निदान कैसे किया जाता है? (How is gonorrhea diagnosed?)

  • रोगी की केस हिस्ट्री और बताए लक्षणों की पहचान के आधार पर ​​मूल्यांकन
  • एक स्वैब की मदद से डिस्चार्ज के सैंपल का टेस्ट
  • यूरिन सैंपल टेस्ट

घरेलू उपचार

जीवनशैली में बदलाव और घरेलू उपचार

निम्नलिखित बदलाव और घरेलू उपचार आपको गोनोरिया से निपटने में मदद कर सकते हैं :

  • जब भी सेक्स करें कंडोम का इस्तेमाल करें
  • अगर आप ओरल सेक्स कर रहे हैं तो , पेनिस को ढंकने के लिए कंडोम का उपयोग करना वहीं वजायना को ढंकने के लिए लेटेक्स या प्लास्टिक का चौकोर (डैम) का इस्तेमाल करना।
  • सेक्स टॉयज शेयर न करना और इस्तेमाल के पहले उन्हें धोना और किसी और के इस्तेमाल से पहले उन्हें नए कंडोम से ढंकना
  • तब तक सेक्स करने से बचें जब तक आप पूरी तरह से ठीक न हो जाए।

गोनोरिया (Gonorrhea) का होने पर मुझे किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?

  • अगर किसी एक पार्टनर में गोनोरिया की पुष्टी होती है, तो अन्य साथी को भी इसकी जांच करवानी चाहिए।
  • जब तक गोनोरिया का उपचार नहीं हो जाता है, तब तक ओरल सेक्स, योनि सेक्स या गुदा सेक्स न करें।
  • गोनोरिया का संक्रमण लोगों में आत्मविश्वास की कमी ला सकता है, साथ ही, अगली बार साथी के साथ सेक्स करने के दौरान मन में डर भी उत्पन्न कर सकता है। अगर आपको ऐसे किसी भी लक्षण का अनुभव होता है, तो इस बार में आप अपने हेल्थ एक्सपर्ट की उचित सलाह ले सकते हैं। साथ ही, अपने अनुभव अपने साथी के साथ भी जरूर शेयर करें।
  • कई कपल्स गोनोरिया के दोरान कंडोम का इस्तेमाल करना सुरक्षित मान सकते हैं। हालांकि, ऐसा करना जोखिम भरा हो सकता है। अगर गोनोरिया का संक्रमण है, तो कंडोम के साथ भी सेक्स न करें।

यदि आपके कोई प्रश्न हैं, तो बेहतर समाधान के लिए कृपया अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

उम्मीद करते हैं कि आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा और गोनोरिया से संबंधित जरूरी जानकारियां मिल गई होंगी। अधिक जानकारी के लिए एक्सपर्ट से सलाह जरूर लें। अगर आपके मन में अन्य कोई सवाल हैं तो आप हमारे फेसबुक पेज पर पूछ सकते हैं। हम आपके सभी सवालों के जवाब आपको कमेंट बॉक्स में देने की पूरी कोशिश करेंगे। अपने करीबियों को इस जानकारी से अवगत कराने के लिए आप ये आर्टिकल जरूर शेयर करें।

 

 

Leave a Comment